Air Pollution Essay In Hindi Pdf

environmental pollution in hindi wikipedia, environmental pollution in hindi language pdf, environmental pollution essay in hindi, Definition of impact of environmental pollution on human health in Hindi, impact of environmental pollution on human life in Hindi, impact of environmental pollution on human health ppt in Hindi, impact of environmental pollution on local communities in Hindi,information about Environmental Pollution in hindi wiki, Environmental Pollution prabhav kya hai, Essay on green haush gas in hindi, Essay on Environmental Pollution in Hindi, Information about Environmental Pollution in Hindi, Free Content on Environmental Pollution information in Hindi, Environmental Pollution information (in Hindi), Explanation Environmental Pollution in India in Hindi, Paryavaran Pradushan in Hindi, Hindi nibandh on World Water Day, quotes on Environmental Pollution in hindi, Environmental Pollution Hindi meaning, Environmental Pollution Hindi translation, Environmental Pollution information Hindi pdf, Environmental Pollution information Hindi, quotations Bishwa Jala Diwas Hindi, Environmental Pollution information in Hindi font, Impacts of Environmental Pollution Hindi, Hindi ppt on Environmental Pollution information, essay on Paryavaran Pradushan in Hindi language, essay on Environmental Pollution information Hindi free, formal essay on Paryavaran Pradushan h, essay on Environmental Pollution information in Hindi language pdf, essay on Environmental Pollution information in India in Hindi wiki, short essay on Environmental Pollution information in Hindi, Paryavaran Pradushan essay in hindi font, topic on Environmental Pollution information in Hindi language, information about Environmental Pollution in hindi language, essay on Environmental Pollution information and its effects, essay on Environmental Pollution in 1000 words in Hindi, essay on Environmental Pollution information for students in Hindi,

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र-दिल्ली पिछले कुछ महीनों से भयानक विषैली हवाओं की चपेट में है। दिवाली से पहले सुप्रीम कोर्ट ने इस स्थिति से निपटने के लिए पटाखों पर बैन का फैसला सुनाया था लेकिन हालात में कोई भी बदलाव नजर नहीं आ रहा। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने दिल्ली की वर्तमान हालत को पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दिया है। उसने सरकार को एक पत्र लिखकर सभी तरह के आउटडोर एक्टिविटीज तथा स्कूलों में स्पोर्ट्स एक्टिविटीज को तत्काल रोकने का सुझाव दिया है। साथ ही साथ उसने सभी दिल्लीवासियों को घरों से बाहर न निकलने की सलाह भी दी है। भयंकर धुंध की वजह से सांस लेने में तकलीफ और सड़कों पर कम होती दृश्यता लोगों की परेशानी का सबब बनी हुई है। ऐसे में यह जानना-समझना बहुत जरूरी है कि ये स्मॉग है क्या और इसके कारण और दुष्प्रभाव क्या हैं? आखिर यह किसी को बीमार कैसे बना सकता है।

क्या है स्मॉग – स्मॉग एक तरह का वायु प्रदूषण ही है। यह स्मोक और फॉग से मिलकर बना है जिसका मतलब है स्मोकी फॉग, यानी कि धुआं युक्त कोहरा। इस तरह के वायु प्रदूषण में हवा में नाइट्रोजन ऑक्साइड्स, सल्फर ऑक्साइड्स, ओजोन, स्मोक और पार्टिकुलेट्स घुले होते हैं। हमारे द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले वाहनों से निकलने वाला धुआं, फैक्ट्रियों और कोयले, पराली आदि के जलने से निकलने वाला धुआं इस तरह के वायु प्रदूषण का प्रमुख कारण होता है।

क्या है स्मॉग का कारण – एनसीआर-दिल्ली की सीमाएं पंजाब, उत्तर प्रदेश और हरियाणा से लगती हैं जहां बहुतायत मात्रा में कृषि की जाती है। यहां के लोग फसल कटने के बाद उसके अवशेषों को जला देते हैं जिससे स्मॉग की समस्या उत्पन्न होती है। इसके अलावा इस बार सुप्रीम कोर्ट से बैन होने के बावजूद राजधानी के बहुत से इलाकों में भारी मात्रा में पटाखे आदि फोड़े गए। स्मॉग के बनने में इनका भी योगदान कम नहीं है। राजधानी की सड़कों पर उतरने वाली कारें, ट्रक्स, बस तो बहुत सालों से स्वच्छ पर्यावरण की राह में रोड़ा हैं। इसके अलावा औद्योगिक प्रदूषण भी स्मॉग का मुख्य जिम्मेदार कारक है। सर्दी के मौसम में हवाएं थोड़ी सुस्त होती हैं। ऐसे में डस्ट पार्टिकल्स और प्रदूषण वातावरण में स्थिर हो जाता है जिससे स्मॉग जैसी समस्याएं सामने आती हैं।

स्मॉग के दुष्प्रभाव –
खांसी और गले तथा सीने में जलन – जब आप स्मॉग के संपर्क में आते हैं तो हवाओं में हाई लेवल का ओजोन मौजूद होने की वजह से आपके श्वसन तंत्र पर बुरा असर पड़ता है। इससे सीने में जलन होती है तथा खांसी की भी समस्या उत्पन्न हो जाती है। ओजोन आपके फेफड़ों को तब भी नुकसान पहुंचाती है जब इसके लक्षण गायब हो चुके होते हैं।

अस्थमा में हानिकारक – अगर आप अस्थमा के मरीज हैं तो स्मॉग आपके लिए ज्यादा घातक हो सकता है। स्मॉग में मौजूद ओजोन की वजह से अस्थमा का अटैक आ सकता है।

सांस लेने में तकलीफ और फेफड़े खराब होना – स्मॉग की वजह से सांस लेने में तकलीफ तो होती ही है साथ ही साथ इसकी वजह से अस्थमा, एम्फीसिमा, क्रोनिक ब्रोंकाइटिस और अन्य श्वांस संबंधी समस्याएं अपनी गिरफ्त में ले लेती हैं। इसकी वजह से फेफड़ों में संक्रमण भी हो सकता है।

क्या है बचाव का तरीका –
1. सबसे पहले आपको अपने इलाके का ओजोन स्तर पता होना चाहिए।
2. घर से ज्यादा देर तक के लिए बाहर रहने से बचें।
3. बाहर जाने का प्रोग्राम तभी बनाएं जब ओजोन का स्तर कम हो।
4. स्मॉग के दिनों में कम से कम एक्टिव रहने की कोशिश करें। ऐसे मौसम में आप जितना एक्टिव रहेंगे आपको श्वसन संबंधी रोग होने का 5. खतरा उतना बढ़ जाएगा।
6. वायु प्रदूषण के खिलाफ लड़ाई में सहयोग करें। ऊर्जा संरक्षण, कार पूलिंग और पब्लिक ट्रांसपोर्ट जैसे अभियानों में सहयोग दें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

0 Replies to “Air Pollution Essay In Hindi Pdf”

Lascia un Commento

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *